(Ashita ki Jawani Sawan ki Barsaat)

अशिता की जवानी पर सावन की बरसात

दोस्तों बात उन दिनों की हे जब मैं अपने मामा के घर पर गया हुआ था.

वही पर मेरी एक मौसी की लड़की भी अपनी सर्दियों की छुट्टियों में आई हुई थी।

उस वक्त मेरी उमर 21 साल थी और मौसी की लड़की जिसका नाम अशिता था उसकी उम्र कोई 19 साल के आसपास होगी.

हम दोनों अपनी पूरी जवानी की मस्ती में थे.

उसके बदन के उभरे हुए अंगों की गोलाई उसकी जवानी में चार चाँद लगा रही थी।

उसकी तारीफ मैं क्या करू खूबसूरती में कैटरीना कैफ जैसी थी।

लेकिन चूचियां उससे भी ज्यादा लगती थी उसे देख कर मेरी रातों की नींद गायब होने लगी.

एक रात में ख़ुद को रोक नहीं पाया और चुपके से जाकर मैंने उसकी रजाई हटा दी तो देखा कि उसकी चुन्नी चुचियों से इस तरह लिपटी हुई थी मानो कि काला नाग किसी खजाने की पहरेदारी कर रहा हो.

इससे पहले कि मैं उस जवानी के खजाने को छू पाता, सर्दी लगने की वजह से अशिता की आँख खुल गई।

आँख खुलते ही उसने मुझे देखा.

इससे पहले वो कुछ बोलती मैंने उसके मुंह पर हाथ रख दिया और चुपचाप चला गया.

लेकिन मैं डरा हुआ था की शायद वो किसी से कुछ कह न दे.

और फ़ैसला कर लिया कि अशिता का ख्याल छोड़ कर आज ही घर चला जाऊंगा.

स्टेशन से पहले ही अशिता का फ़ोन आया और वो बोली – आग लगा कर जाना अच्छी बात नहीं होती.

और फ़ोन काट दिया।

इतना सुनते ही मेरी हसरतें जवान होने लगी और वहीं से वापसी के लिए टैक्सी पकड़ी और एक घंटे मैं अपनी अशिता के पास पहुँच गया।

सभी ने पूछा – वापिस क्यों आ गया?

मैंने बहाना बनाया और कह दिया कि मेरे किसी दोस्त ने पापा की आवाज निकाल कर मजाक किया था.

अब तो मैं बेचैनी से रात होने का इंतज़ार करने लगा.

जैसे ही रात को सब सोने चले गए तो अशिता भी मामी के साथ उनके कमरे में चली गई.

मैं सब के सोने का इंतज़ार कर रहा था.

मैंने देखा सब सो गए है तो में चुपके से मामी के रूम में गया और जाकर अशिता को देखा तो मालूम हुआ वो भी नहीं सोयी थी।

मैंने पूछा – सोयी क्यों नहीं?

तो कहने लगी कि जब तन बदन में कोई आग लगा दे तो भला नींद कैसे आएगी.

मैंने उसे अपनी बाँहों में उठा लिया जैसे उसका फूल सा बदन मेरे बदन से छुआ तो मानो मेरे तन में बिजली सी लग गई हो.

ऊपर एक रूम हमेशा खाली रहता था, वो गेस्ट रूम था मैं अशिता को वहीं ले गया।

मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसके मदमाते बदन को एकटक देखने लगा.

अशिता बोली – तुम्हारी बेशरम निगाहें मेरे बदन को और ज्यादा बेकरार कर रही हैं।

मैंने एक एक करके अशिता के सारे कपड़े उतर दिए उसके तन पर सिर्फ़ ब्लैक कलर की चोली (ब्रा) और कच्छी (पैंटी) थी.

अधिक कहानियाँ : मेरी जवान बॉस को चाहिए मेरा लंड

उसने उठकर मेरे कपड़े उतार दिए.

अब मैं उसे मस्त अहसास से किस करने लग गया।

मैंने उसके अंग अंग पर अपने गरम होंठों से बहुत देर तक किस की.

अपने मुंह से मैंने अशिता की पैंटी को हटाया जो कि चूत के पानी से बिल्कुल गीली हो चुकी थी।

मगर उस पैंटी से अशिता की जवानी की खुशबू आ रही थी।

अब अशिता की वो मस्त और मोटी चूत मेरे सामने थी जिसे मैं सिर्फ़ अपने ख्यालों में ही सोचा करता था.

मैंने अशिता की ब्रा उतार दी तो उसकी बिंदास चूचियां अब मेरे होठों की गिरफ्त मैं आ गई थी। आप यह कजिन की चुदाई कहानी इंडियन एडल्ट स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हे।

मैंने जी भर के उन्हें चूसा तो अशिता तड़पने लगी.

अशिता के मुंह से मस्त मस्त आवाजें आ रही थी – अआया अ … ह्ह्ह … ऊऊ ऊ ऊफ. ईई ऊईई … श्सस सश्स … अह्ह्ह. उह … मेरे सावन … अब और न तड़पाओ. अब और न तड़पाओ मुझे.

मैं चूचियों को चूसता हुआ उसके तन को चूमने लगा

चूमते चूमते मैं अपने होंठों को अशिता की मस्त और सेक्सी चूत के पास ले आया.

अशिता और ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी इसलिए उसने मेरे लम्बे और मोटे लन्ड को अपने नरम नाजुक और गरम होंठों के बीच कैद कर लिया और बिंदास होकर चूसने लगी.

साथ ही साथ मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से सहला रहा था.

10 मिनट तक हम दोनों इसी तरह करते रहे.

तभी अशिता की जवानी का रस उसकी चूत से निकल कर बाहर आ गया और मैंने उस रस की एक एक बूँद को अपने होंठों पर ले लिया.

सचमुच उस रस को पीकर तो कोई भी वासना का प्रेम पुजारी हो जाए.

तभी मेरे लन्ड के वीर्य ने अशिता की जवानी को भी भिगो दिया.

अशिता ने भी मेरे लंड के रस की एक एक बूँद का स्वाद चखा.

हम दोनों एक दूसरे को कस के पकड़े हुए थे, साथ साथ एक दूसरे के लन्ड और चूत को सहला रहे थे.

कुछ देर बाद हम दोनों फ़िर से तैयार थे.

मैंने बिना कोई देर किये अशिता को अपने नीचे कर लिया.

अब अशिता मेरे लन्ड को अपनी चूत में लेने के लिए बेकरार थी.

उसकी चूचियां और ज्यादा मोटी और टाइट हो गई थी और चूत की भी चमक इतनी बढ़ गई कि लन्ड चूत को देखकर उसमें समाने के लिए बेकरार हो रहा था.

हम दोनों में अब और इन्तज़ार का होसला नहीं था इसलिए मैंने लन्ड को चूत के दरवाजे पर टिका दिया और जोर से झटका लगाया.

इस झटके के साथ ही अशिता की चीख निकल गई.

लेकिन मैंने उसकी आवाज अपने होंठों से वही कैद कर दी.

मैंने बहुत सी लड़कियां चोदी हैं लेकिन जितनी टाइट चूत अशिता की थी उतनी शायद किसी की नहीं थी।

चार पांच बार कोशिश करने पर भी लन्ड चूत में समा नहीं पाया.

मुझे डर था कि इस तरह तो अशिता को बहुत परेशानी होगी. हो सकता है कि अशिता बेहोश भी हो जाए.

इसलिए मैं नीचे से कोल्ड क्रीम और एक पानी की बोतल ले आया.

अशिता को काफी दर्द हो रहा था.

मैंने कोल्ड क्रीम अशिता की चूत और अपने लन्ड पर लगा दी.

फिर लन्ड को चूत पर रख कर धीरे धीरे अंदर डालने लगा.

लन्ड जितना अंदर जाता, अशिता उतनी ही दर्द से कराह कर मुझसे लिपट जाती.

मैंने एकदम ज़ोर से झटका लगाया और पूरा लन्ड चट की आवाज के साथ चूत के अंदर चला गया।

अशिता की चीख निकल गई और खून चूत से बाहर आने लगा.

दर्द के कारण अशिता सह नहीं पाई और बेहोश हो गई।

मैंने अपना लन्ड चूत में ही रखा और ठंडे पानी के छींटे अशिता के मुंह पर मारे.

तब अशिता ने आँखें खोली.

अशिता मेरी तरफ़ देख रही थी कि मैंने तभी अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगा.

धीरे से मैंने अपने लन्ड को हिलाया तो चूत कुछ नर्म लगने लगी.

अधिक कहानियाँ : मजदूर को दूध पिला उसका काला लंड लिया

और अब अशिता के कराहने की आवाज आई – अह अआया … आह्ह सस … ईईश …. ऊफ़ ओह … सावन चोदो … मर गई मैं!

अब अशिता की चूत अपने वासना के जादू से मेरे लन्ड को अपने भीतर पागल कर रही थी.

मेरा लन्ड भी अशिता की चूत को जी भर कर चोद रहा था.

वास्तव में अशिता की चूत को चोदकर मैं स्वर्ग की किसी अप्सरा को चोदने का अहसास कर रहा था.

हम दोनों चूत लन्ड के इस खेल को आधे घंटे तक खेलते रहे. आप यह कजिन की चुदाई कहानी इंडियन एडल्ट स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हे।

तभी अशिता की पकड़ मुझ पर और ज्यादा हो गई और मैं समझ गया कि अशिता का सेक्स पूरा हो गया है।

उसकी चूत का गर्म पानी मुझे अपने लन्ड पर महसूस हुआ.

अब मेरे लिए भी ख़ुद को ज्यादा देर रोक पाना आसान नहीं था और मैंने भी अपनी वासना के बादलों को अशिता की चूत की प्यासी धरती पर बरसा दिया।

और इसके बाद हम दोनों एक दूसरे पर काफी देर तक लेटे रहे.

अशिता बोली – सावन, ये आज मेरी पहली सुहागरात है. आज रात मुझे जी भर के चोदो और लगा दो अपनी अशिता पर सावन की मोहर!

उस रात मैंने अपनी अशिता को चार बार चोदा.

लेकिन उस दिन अशिता की चूत पर बहुत सूजन आ गई.

साथ ही मेरे लन्ड में भी दर्द का अहसास हो रहा था क्योंकि चूत ज्यादा टाइट थी।

अशिता से चला नहीं जा रहा था.

मैंने उसे अपनी बांहों में उठाया और उसके बिस्तर पर लिटाया और उसे एक चुम्बन करके चला आया.

उस दिन के बाद जब तक मैं मामा के घर पर रहा, हम दोनों की सारी रात उसी गेस्ट रूम में गुजरती थी अकेले तन्हा एक दूसरे के आगोश में.

सचमुच चुदाई का मज़ा लेने के बाद कुछ ही दिनों में अशिता के चेहरे की चमक अपने आप बढ़ने लगी, वो और ज्यादा ख़ूबसूरत और सेक्सी हो गई।

तो दोस्तो, कभी अपने इस सेक्सी सावन को भी अपनी प्यास बुझाने के लिए याद कीजिये!

Popular Stories / लोकप्रिय कहानियां

  • बुआ की लड़की को पहली बार चोदा

    पढ़िए कैसे मेने बुआ की लड़की को पहली बार चुदाई का मज़ा दिया और उसे अपनी रंडी बना लिया।

  • चचेरी बहन की चुदाई मेरा पहला अनुभव

    मेरी चचेरी बहन की चुदाई की कहानी पढ़ें, वो 19 बरस की है लम्बाई उसकी ज्यादा नहीं है लेकिन उसकी चुची बड़ी है, स्मार्ट भी है। उसकी गाण्ड पीछे से उभरी हुई भी है।

  • मौसेरी बहन कविता की चुदाई

    इस देसी चुदाई कहानी में पढ़िए! कैसे मौसाजी ने पैसे की दिक्कत के चलते, अपनी बड़ी बेटी को पेसो के बदले अपने चचेरे भाई से चुदने का सौदा किया. भाई से चुद गयी बहन!

  • मामा की लड़की की कामुकता

    मां की लड़की जब हमारे घर एग्जाम देने आयी थी तब मौका देख के मेने उसे उकसाया और उसकी चुदाई भी करी, पढ़िए कैसे!

  • Makan Malik ka Beta

    Lund ki bhukhi sherniya – Part 1

    Is chudai ki kahani me padhiye – Kaise main apne mahaul se nikalkar, aisi jagah aaya, Jaha mujhe sirf chudai hi chudai ka mahaul mil gya.

आपकी सुरक्षा के लिए, कृपया कमेंट सेक्शन में अपना मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी ना डाले।

Leave a Reply