(Maa ka Randi hone ka Raaz)

माँ का रंडी होने का राज़

हेलो, मेरा नाम अंजलि गई और मेरी उमर अभी 24 साल की है. मैं दिखने मे काफ़ी सुंदर हूँ और मेरा जिस्म तो मानो एक रंडी का जिस्म है. मैं गोआ की रहने वाली हूँ और अपने मम्मी और दादी के साथ गोआ मे ही रहती हूँ. हुमारे घर मे सिर्फ़ हम तीन ही लोग है और इसमे से पापा भी बिज़्नेस के चक्कर से बाहर ही रहते है.

इसलिए मैं और मम्मी ही घर पर रहते है. आज मैं आपके लिए एक दम अछी और सचि कहानी ले कर आयी हूँ. जिसको पड़ कर आपको सबको खूब मज़ा आने वाला है. पर उससे पहले मैं आपको थोडा अपने बारे मे बताना चाहती हूँ.

मेरा नाम तो आप जान ही चुके हो, इसलिए अब मैं तोड़ा और कुछ आपके लिए अपने बारे मे बतती हूँ. मेरा रंग एक दम गोरा है और मेरी आँखे एक दम मोटी मोटी है, जिस पर हर कोई डुलता फिरता है. अब मेरे होंठो की बात करते है, जो की बहोत ही मस्त है और पतले – पतले होंठ है. जिसको देख कर हर किसी का मान करता है की वो मेरे होंठो को चूस – चूस कर बस खा जाए.

अब आता है मेरा फिगर, जो की अब 36-32-36 का है. जिसको देख कर अच्छे – अच्छे का लंड खड़ा हो जाता है. सबका बस यही मान करता है की वो मुझे बस अपने नीचे लंबा पा कर चोद डाले.

ये सब तो मैने अपने बारे मे थोड़ा बता दिया है. पर अब मैं अपनी मॉं के बारे मे बताती हू. जिसके उपर मेरी ये कहानी है. मेरी मॉं जिनका नाम सुषमा है और वो 35 साल की है. मेरी मॉं का फिगर तो मुझसे भी ज़्यादा कमाल का है. ये सब मैं ही नही बल्कि हर कोई कहता फिरता है. मेरी मा का फिगर 38-32-40 है. अब ये देख कर तो आप अंदाज़ा लगा ही सकते हो की मेरी मों कितनी कमाल की होगी.

चलो अब मैं आपको बतती हूँ की, ये कहानी तब की है जब मैं 19 साल की थी. वेसए तो मैं जब उससे भी छोटी थी और स्कूल जाती थी तब भी मुझे काई बार अपनी मम्मी पर थोड़ा शक्क होता था. पर मम्मी हमेशा ऐसे बिहेव करती थी, जिससे मुझे सब नॉर्मल लगता था और मैं कुछ समझ ही नही पाती थी.

एक दिन की बात है मैं स्कूल से घर जल्दी आ गई, तो मैने घर पर एक अंकल को देखा. मेरे अंदर आते ही, वो अंकल मम्मी को टाटा कह कर चला गया. फिर मम्मी ने भी मेरे साथ नॉर्मल बिहेव किया, जेसे की कुछ हुआ ही ना हो. ऐसे ही रात आ गई और फिर मम्मी मुझे सोते समये उन अंकल के बारे मे बताने लग गई और कहने लग गई की वो तो कुछ ठीक करने आए थे. तब मैं छोटी थी, इसलिए मैने इन सब बातो पर ज़्यादा ध्यान नही दिया और ना ही कभी सोचा की ये क्या होता है!

मैने ऐसे ही कई बार अंकल को आते हुए देखा, पर मैं हुमेशा चुप ही रह जाती थी. क्योकि मुझे तब कुछ भी समझ नही आ पता था. ऐसे ही मैने एक दिन वॉशरूम मे कॉंडम पड़ा हुआ देखा, जो की मम्मी की ब्रा और पनटी के साथ पड़ा था. मैने इस बारे अपनी स्कूल फ्रेंड्स से भी डिसकस किया था, तो मुझे पता था की कॉंडम किस कम आता है. मैने जब वॉशरूम मे कॉंडम पड़ा देखा, तो मैने ते भी ध्यान दिया की उस पर किसी का पानी निकला हुआ था. तब मुझे अपनी मॉं पर विश्वास नही रा.

ये सब देखते हुए मैं थोड़ी बड़ी हो गई थी और अब काफ़ी कुछ समझने लग गई थी. मैं जब भी स्कूल से आती तो मम्मी हमेशा मुझे नॉर्मल बिहेव करती हुई मिलती थी, जेसा की कुछ हुआ ही ना हो. मुझे खाना दे कर खुद सो जया करती. अब मैने भी सोचा की एक दिन मैं भी स्कूल नही जाऊंगी और घर से निकल कर घर के पीछे ही छुप जाऊंगी. ये फिर मैने अगले ही दिन किया. मैं घर से निकल गई और घर के पीछे आ कर छुप गई.

अधिक कहानियाँ : सामने वाली भाभी की चुदाई

मैने देखा की मेरे जाने के एक घंटे बाद मम्मी फोन पर किसी से बात कर र्ही थी. तब मैने उनकी बाते सुनने के लिए कान खिड़की को लगाया और बात सुनने लग गया. मम्मी बड़े ही पायर से किसी से बात कर रही थी और उनसे पूछ रही थी की कितने कस्टमर है?

फिर पता लगने पर उन्होने हाँ करदी और घर पर कुछ ज़्यादा ही पैसो की अमाउंट बोल कर आने को कहा और साथ ही साथ उनको 4 बजे तक का टाइम दे दिया. क्योकि मम्मी जानती थी की मैं अब बड़ी हो गई हूँ तो मैं ये सब समझती हूँ.

मैं अब चुप चाप वाहा पर खड़ी थी और मम्मी को घर के कम जल्दी जल्दी ख़तम करते हुए देख रही थी. मम्मी ने जल्दी से काम ख़तम किए और फिर मम्मी नहा धो कर तैयार हो गई.

मम्मी ने आज जीन्स और स्लीव लेस टॉप डाल रखी थी और उनके बाल भी खुले हुए थे. उन्होने आँखो पर आइलाइनर और होंठो पर मस्त से कलर की लिपस्टिक ल्गा रखी थी. जिसमे वो बहोट हॉट मस्त लग रही थी. थोड़ी ही देर बाद घर पर रिंग हुई तो मम्मी ने जा कर दरवाजा खोला.

वहा पर 2 अंकल थे जिनकी उमर 40 साल या उससे उपर की थी. उन दोनो ने जीन्स और टी-शर्ट डाल रखी थी और मम्मी उन्हे सोफा पर बैठने को कहा. फिर मम्मी ने उन्हे पानी दिया और फिर कुछ स्नॅक्स भी दिया और उनके पास आ कर बैठ गई.

तीनो एक दूसरे से बाते कर रहे थे और उन लड़को के लंड मम्मी को देख देख कर खड़े हो रहे थे. जिन्हे वो अपने हाथो से बैठा रहे थे. उन दोनो अंकल का नाम राजेश और सुरेश था.

दोनो मम्मी को देख कर पागल हुए जा रहे थे और दोनो से खुद को कंट्रोल करना मुश्किल हो रा था. फिर राजेश ने मम्मी को बुलाया और फिर अपनी गोदी मे बैठा लिया. गोदी मे बैठते ही मम्मी की गॅंड उसके लंड पर लग रही थी. फिर मम्मी उनके उपर से उठ गई और कमरे मे जा कर लेट गई. वाहा पर जाते ही अंकल ने मम्मी को नंगी कर दिया. मॉं नंगी बहोट ही ज़्यादा अच्छी लग रही थी. अब दोनो अंकल भी नंगे हो गये थे और फिर उनमे से राजेश ने अपना 8 इंच लंबा लंड मम्मी को चूसने को कहा.

मम्मी ने भी मज़े मे पहले हाँ कर दी और फिर लंड को मूह मे ले कर चूसने लग गई. उधर सुरेश मम्मी की चुत अपनी जीब से चॅट रहे था, जिसका मम्मी को बहोट ही ज़्यादा मजा आ रा था. राजेश अपना लंड मम्मी के मूह मे पूरा डाल रा था. उससे मम्मी को सांस लेने मे दिक्कत हो रही थी, तो उन्होने ऐसे ही लंड को मूह से निकल दिया. पर वो दोनो बोलने लग गये की तू तो एक नंबर की रांड है और हमने इस के पैसे भी दिए है तो चुद साली चुद.

अधिक कहानियाँ : सुन्दर लड़की की चूत की सील तोड़ी

अब उन्होने मम्मी को घोड़ी बना दिया था और अब राजेश ने मम्मी की चुत पर लंड रखा और ज़ोर से एक ही झटके मे लंड अंदर डाल कर ज़ोर ज़ोर से चुदाई करने लग गया. मम्मी के मूह से चीख निकल गई, तो सुरेश ने अपना लंड उनके मूह मे दे दिया. मम्मी की दोनो तरफ से चुदाई हो रही थी और उन्हे दर्द के साथ अब मजा भी आ रा था.

फिर राकेश ने अपना सारा पानी मम्मी की चुत मे निकल दिया. अब सुरेश ने वैसे ही मम्मी की चुदाई करी और उसने भी ऐसे ही किया. मम्मी अब थक चुकी थी और उन्होने मम्मी को 4 ब्जे तक खूब चुदाई की और फिर चले गये.

मैं जब 5 ब्जे घर आई, तो मम्मी थकि हुई थी. सब कुछ नॉर्मल ही लग रा था और वो सो रहे थी. ये थी मेरी माँ का रंडी होने का राज़. मुझे आज तक पता नहीं के मेरी माँ ये सब कब से कर रही हे. पर ये बात का अंदाजा मुझे मेरी कमसीन जवानी में पैर रखते ही पता चल गया था.

अब तो इस बात को ५ साल हो गए हे और मेरी माँ को देख देख के मुजमे भी चुदाई का नशा चढ़ता जा रा हे. तो मुझे कमेंट में जरूर बताई के में मेरी पहली चुदाई कैसे और किसके साथ करू!

Popular Stories / लोकप्रिय कहानियां

  • Didi ki chuddakad saheliyan-11

    Didi ki saheli reema bus me hui chhedkhaniyo se vasna me vileen ho gayi. Fir aage reema kese randi bani aur kya hua padhe is chut chudai ki kahani me

  • स्पा वाली चिकनी लड़की की चुदाई

    मुझे अलग अलग लड़कियों के स्पर्श को महसूस करना बहुत पसंद हे. इस लिए में थोड़े थोड़े दिन पे मसाज करवाने जाता हु. ऐसे ही एक मसाज पालर में मुझे एक लड़की पसंद आगयी। उसे कैसे और खूब चोदा ?

  • Biwi ki Chudai ka Soda

    Dukhi Pati ka Patni se badle ki Sex Story – Part 1

    Ek pati jisne apni patni ko gair umar ke ladke se chudwaya. Kaise? chalo kahani me padte hai aur maje karte hai, sab apne apne lund pakad lo.

  • Randi Reema, Ankit Aur Main

    Lund ki bhukhi sherniya – Part 11

    Is kahani me padhie – Kaise maine Reshma ke kothe per jaaker reema ki chudai ankit se karwai or uski virginity tudwai. Aur mere liye bhi ek surprise tha padhie is randi ki chut chudai ki kahani me.

  • A Naked Body & My Hands

    My First Job as Massage Boy – Part 1

    After my graduation, I was jobless. So one day thought come to mind to start job as massage boy. After wait of 1 month I got my first massage job with Aunty aged 37. Read how it turned out.

2 thoughts on “माँ का रंडी होने का राज़

  1. जिस लड़की को मेरा मोटा लंम्बा लंड लेना हो तो कोल करें 75687*****

आपकी सुरक्षा के लिए, कृपया कमेंट सेक्शन में अपना मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी ना डाले।

Leave a Reply